share and support
anjum rehbar ki shayari

मिलना था इत्तेफाक़ बिछड़ना नसीब था
वो इतनी दूर हो गया जितना करीब था

मैं उसको देखने को तरसती ही रह गई
जिस शख्स की हथेली में मेरा नसीब था

बस्ती के सारे लोग ही आतिश परस्त थे
घर जल रहा था और समंदर करीब था

दफना दिया गया मुझे चांदी की क़ब्र में
मैं जिसको चाहती थी वो लड़का ग़रीब था
______________________________

मजबूरियों के नाम पे सब छोड़ना पड़ा
दिल तोड़ना कठिन था मगर तोड़ना पड़ा

मेरी पसंद और थी सबकी पसंद और
इतनी ज़रा सी बात पे घर छोड़ना पड़ा
_____________________________

इतनी उदास कब थीं कलाई में चूडियाँ
ढीली हुई हैं तेरी जुदाई में चूड़ियाँ

क्या जाने रंग कौन सा उसको पसंद है
हर रंग की इसीलिए लाई हूँ चूड़ियाँ

थककर खनक खनक के तेरे इंतज़ार में
चुपचाप सो गई हैं रज़ाई में चूड़ियाँ

इस साल उसने भेजे हैं तोहफ़े नए नए
कंगन अगस्त में तो जुलाई में चूड़ियाँ

हर दिन वो मेरे वास्ते लाता है प्यार से
हर रोज़ टूटती हैं लड़ाई में चूड़ियाँ

अंजुम संम्भाल रक्खी हैं मैंने वो आज तक
आई थीं कांच की जो सगाई में चूड़ियाँ

_________________________________

 

इतनी उदास कब थीं कलाई में चूडियाँ
ढीली हुई हैं तेरी जुदाई में चूड़ियाँ

क्या जाने रंग कौन सा उसको पसंद है
हर रंग की इसीलिए लाई हूँ चूड़ियाँ

थककर खनक खनक के तेरे इंतज़ार में
चुपचाप सो गई हैं रज़ाई में चूड़ियाँ

इस साल उसने भेजे हैं तोहफ़े नए नए
कंगन अगस्त में तो जुलाई में चूड़ियाँ

हर दिन वो मेरे वास्ते लाता है प्यार से
हर रोज़ टूटती हैं लड़ाई में चूड़ियाँ

अंजुम संम्भाल रक्खी हैं मैंने वो आज तक
आई थीं कांच की जो सगाई में चूड़ियाँ

_________________________________

मुहब्बतों का सलीक़ा सिखा दिया मैंने…
तेरे बगैर भी जी के दिखा दिया मैंने …

shayari
dad bhari urdu shayari

बिछड़ना मिलना तो किस्मत की बात है लेकिन,
दुआएं दे तुझे शायर बना दिया मैंने…

जो तेरी याद दिलाता था,चहचहाता था ,
मुंडेर से वो परिंदा उडा दिया मैंने ……

जहाँ सजा के मैं रखती थी तेरी तस्वीरें
अब उस मकान में ताला लगा दिया मैंने..

ये मेरे शेर नहीं मेरे ज़ख़्म है अंजुम ,
ग़ज़ल के नाम पे क्या क्या सुना दिया मैंने

share and support

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!