JUDAI

अंजुम रहबर

मिलना था इत्तेफाक़ बिछड़ना नसीब थावो इतनी दूर हो गया जितना करीब था मैं उसको देखने को तरसती ही रह…