Sunday, 15 October 2017

अरमान शायरी

अब तो आ जाइये...

शाम है बुझी बुझी वक्त है खफा खफा,
कुछ हंसीं यादें हैं कुछ भरी सी आँखें हैं,
कह रही है मेरी ये तरसती नजर,
अब तो आ जाइये अब न तड़पाइये।

हम ठहर भी जायेंगे राह-ए-जिंदगी में
तुम जो पास आने का इशारा करो,
मुँह को फेरे हुए मेरे तकदीर सी,
यूँ न चले जाइये अब तो आ जाइये।


अरमान मिलने के...

यूँ ही भटकते रहते हैं अरमान तुझसे मिलने के, 
न ये दिल ठहरता है न तेरा इंतज़ार रुकता है।

मिलती रहे मोहब्बत...

न भूख है मुझे न दौलत की प्यास बाकी है, 
मिलती रहे हर किसी से मोहब्बत काफी है।

वो चीज़ तेरी हो...

जिस चीज़ पे तू हाथ रख दे वो चीज़ तेरी हो, 
और जिस से तू प्यार करे, वो तक़दीर मेरी हो।

छोटे छोटे सपने...

छोटे छोटे सपने हैं मेरे, छोटी सी आशा, 
पूरी दुनिया पर हुकूमत हो मेरी बस इतनी सी अभिलाषा।

छोटे छोटे सपने...

छोटे छोटे सपने हैं मेरे, छोटी सी आशा, 
पूरी दुनिया पर हुकूमत हो मेरी बस इतनी सी अभिलाषा।

Happy New Year shayari in Hindi - 2018

साल ज़रूर बदल रहा है लेकिन साथ नहीं, स्नेह सदैव बना रहे. Wish You a Very Happy New Year. भवरें झूमेंगे जब तक...